चिकित्सीय चुनौती:: आज के हालात

                इस globalization के दौर में जब हर चीज़ का आधुनिकीकरण हो रहा है ,तो चिकित्सा – प्रणाली क्यूँ अछूती रहेगी ? हम जैसे – जैसे विकास की सीढ़ी  चढ़ते जा रहे हैं ,हमारी lifestyle भी उसी अनुरूप होती जा रही है | परिणाम क्या हो रहा है -नई – नई बीमारियां हो रही हैं और साथ में हो रहा है उनके समाधान का इज़ाद | और हो भी क्यों ना | ये जरुरी भी है | भारत भी इसमें पीछे नहीं है | ऐसी कितनी सारी असाध्य बीमारियां हैं ,जिसके इलाज के लिए देश – विदेश से लोग यहाँ आते हैं | अपने देश की ऐसी प्रगति पर खुशी तो होती है पर दुःख तो उस समय होता है जब अपने ही देश के अंदर छोटे -छोटे बच्चों की मौत वैसी बीमारियों से होती है ,जिनका समाधान हमारे पास है | बस कारण क्या होता है — हमारे सरकारी तंत्र की लापरवाही |
                                               दोस्तों ,आप सोच रहे होंगे कि ये मैं क्या कहने जा रही हूँ | कहाँ आधुनिकरण की बात हो रही थी और कहाँ अपने देश में लापरवाही नज़र आने लगी हमें | भारत में 70 % लोग गांवों में निवास करते हैं | स्वाभाविक -सी बात है कि ये अपने इलाज़ के लिए सरकारी हॉस्पिटल पर निर्भर होते होंगे ,जो लाजिमी भी है | लेकिन हाल की मौतों ने पूरे सरकारी संस्थान की पोल ही खोल दी | सच्चाई यह है कि globalization private sector का हो रहा है ना कि हमारे देश की बैकबोन — government hospital का | तभी तो लोगों की मौतों ने इनकी कलई खोल दी है | जाने कितनी सारी कमियां हैं ,जो हमारे विकासीकरण का मजाक उड़ाती हैं | यहाँ सबसे ज्यादा फलीभूत होने वाले दो ही चीज़ तो हैं ,जो एक business का रूप ले चुके हैं —- एक school और दूसरा hospital और वो भी दोनों private | government hospital की सच्चाई तो आप सबके सामने है ही | अब जरा private hospital के structure की बात कर ली जाए | मौतें यहाँ भी होती हैं ,पर कम – से -कम यह तो है कि मूलभूत सुविधाएं तो मिल जाती हैं | हाँ ,ये अलग बात है कि ये सब पैसे का खेल है | जितना पैसा खर्च करोगे ,facility भी आपको वैसी ही मिलेगी |

                                                           private hospital की तो बात ही मत पूछिए | आजकल जो इनका रूप बदला है ,वो किसी mall  या five-star hotel से कम  नहीं है ,जहाँ आपको जरुरत की सारी सुविधांए मिल जायेगी | cafeteria ,restaurant ,एटीएम machine और इन सबका साथ देने वाला एक मजबूत और महत्वपूर्ण स्तम्भ —- medicine shop | व्यवसाय का रंग हमारी चिकित्सा -प्रणाली पर ऐसा चढ़ा है ,जिसे देख -सुन कर हैरानी होती रहती है | इन private hospital में इलाज़ package के हिसाब से होते हैं | उदाहरण के तौर पर अगर आप normal delivery करवा रहे हैं तो उसका अलग package है ,वहीँ operation से डिलीवरी का अलग  | अगर उस समय कुछ offer चल रहा हो तो आपको discount भी मिल सकते हैं | online payment करने पर इस बैंक से अलग डिस्काउंट तो दूसरे बैंक से अलग छूट मिलती है | एक business के लिए profit के जितने भी आसार होते हैं ,सब एक – दूसरे से connected होते हैं और ये सब आपको globalized होते hospital में मिल जाएंगे | ऐसा लगता है कि वैश्वीकरण के बाज़ार में सब कुछ बिक रहा है | जितने भी तरह के fast food हैं ,वे सब आपको इन हॉस्पिटलों के अंदर मिल जाएंगे | खाने -पीने की ऐसी कोई चीज़ नहीं है ,जो अंदर में आपको ना मिले | एकबारगी बाहर से hospital को देखने से आप भी गच्चा खा जाएँ कि ये मॉल है या कोई होटल |
                                                     facility की बात आती है तो वो किसे अच्छी नहीं लगती | आधुनिकीकरण सबका हो रहा है तो इसका भी होना चाहिए | और ये जरुरी भी है | मरीजों को हर तरह की सुविधाएं मिलनी ही चाहिए | पर दुःख की बात यह है कि इन मरीजों में देश के सभी तबके के लोग नहीं आते हैं | जो पैसे वाले हैं ,afford  कर सकते हैं ,उनके लिए तो सब अच्छा है | पर आम लोग कहाँ जाएँ ? अपनी औकात के हिसाब से या तो वे सरकारी हॉस्पिटल का रुख करते हैं या घिसट -घिसट कर अपनी जान गँवा बैठते हैं | ये बड़े -बड़े हॉस्पिटल भारत के मध्यमवर्गीय लोगों के लिए नहीं बने हैं | अगर मान लेते हैं कि कोई मरणासन्न अवस्था में वहां पहुँच भी जाए तो डॉक्टर तब तक हाथ नहीं लगाएंगे ,जब तक operation के लिए पैसे नहीं जमा हो जाए | माना कि ये सब किसी डॉक्टर के हाथ में नहीं है | पर यहाँ कोई एक दोषी ना होकर पूरा management इसके लिए जिम्मेवार है |
                                   केवल बड़े -बड़े शहर ही क्यों छोटे -छोटे शहर यहाँ तक की गांवों में भी वैश्वीकरण की लहर चल पड़ी है | हर जगह अपने -अपने स्तर पर private clinic को आगे बढ़ाने में लगे हुए हैं | गांवों में तो आप देखिएगा कि थोड़ा -सा भी medicine का knowledge है तो वो अपनी क्लिनिक खोल कर बैठ जाएगा | फिर अपने ना जानते हुए ज्ञान से लोगों को गुमराह करते हैं ,पैसे ऐंठते हैं और अपना हित साधते रहते हैं |
                                    ठीक है कि भारत प्रगति की दिशा में कदम बढ़ाने को आतुर है | यहाँ छोटी बीमारियों से लेकर कैंसर जैसी बड़ी बीमारियों का भी इलाज होता है | पर किसी भी देश की सफलता को तभी सफल माना जाएगा ,जब समाज के हर लोग इस अहसास को महसूस करें |

                                       अब बात करते हैं यहाँ के सरकारी हॉस्पिटल की ,जो किसी भी देश को चिकित्सा मुहैया कराने के लिए बैकबोन माना जाता है ,क्यूंकि देश की अधिकांश जनता इसी पर निर्भर होती है ,जो affordable है | पर सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात यह है कि ना ढंग से यहाँ साफ़ -सफाई की व्यवस्था है और ना ही पर्याप्त बेड है मरीजों के लिए | जो मशीनें हैं ,वे भी पुरानी जर्जर अवस्था में हैं | डॉक्टरों और कर्मचारियों के अलावा बेड ,दवाओं और अन्य सामानों की कमी के साथ -साथ सरकारी तंत्र की संवेदनहीनता का सबसे बड़ा उदाहरण भी सरकारी हॉस्पिटलों में ही दिखता है ।

                                                         
                                       ऐसी कई घटनाएं घटित हुई है ,जो इनकी पोल खोलती हैं | अभी हाल ही में कानपुर में एक घटना घटित हुई ,जिसमें एक बड़े अस्पताल में एक व्यक्ति अपने बीमार बच्चे का इलाज कराने ले गया था और वहां एक जगह से दूसरी जगह भेजे जाने में हुई देर के कारण उसके बेटे की मौत हो गयी | ये लापरवाही नहीं तो और क्या है ?
                 राजस्थान में कोटा जिले के सरकारी अस्पताल J.k.lone में इलाज के जरुरी इंतज़ामों के अभाव में एक महीने में 110 बच्चों की मौत ने पूरे  देश को झकझोर कर रख दिया | सूरतेहाल तो यह है कि ना तो यहाँ नवजातों के लिए i.c.u की व्यवस्था है और ना ही nebulizer ,warmer जैसी सामान्य मशीनें तक की उपलब्धता है |
                                                   

                                              देश की राजधानी दिल्ली को ही ले लीजिये | यहाँ एक तरफ five star hotel की तरह hospital खुले हैं ,तो वहीँ दूसरी ओर सरकारी हॉस्पिटल पर इतना दबाव है कि ventilator के साथ -साथ सामान्य बेड का भी अभाव है | नौबत यहाँ तक आ गयी है कि कई एक अस्पताल तो ऐसे हैं जहाँ मरीजों को ग्लूकोज़ स्टैंड तक नहीं मिल पाता | लोकनायक अस्पताल में वेंटिलेटर बेड न मिलने से कई बच्चों की मौत तक  हो गयी थी |
                                                  ऐसे -ऐसे कितने सारे उदाहरण हैं ,जो हमारी चिकित्सीय सुविधाओं की पोल खोलते हैं | चाहे वह metrocities के बड़े सरकारी हॉस्पिटल हो या छोटे शहरों के हॉस्पिटल ,अपनी दीन -हीन अवस्था में हर जगह उपस्थित रहना इनकी किस्मत बन गयी है| तभी तो इसपर उपचाराधीन बच्चों की मृत्यु के चलते प्रश्नचिन्ह लग गया है | गुजरात के राजकोट के सरकारी अस्पताल में 111 ,जोधपुर में 146 ,और बीकानेर में 162 बच्चों के दम घुटने से हमारे सरकारी तंत्र को कठघरे में ला खड़ा किया है | ना डॉक्टर को अपनी जिम्मेवारियों का भान होता है और ना ही वहां के कर्मचारी अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हैं |
                                                          सरकारी हॉस्पिटल का आलम यह है कि जो सीनियर डॉक्टर हैं ,वे वार्डों से दूर रहते हैं और मरीजों को मेडिकल प्रशिक्षुओं की दया पर छोड़ दिया जाता है | जब डॉक्टर अपनी responsibility नहीं समझते हैं तो वहां के कर्मचारियों की क्या बिसात ? हद तो तब हो जाती है ,जब मरीजों के परिजनों को ड्रिप और ऑक्सीजन जांचने को कह दिया जाता है | जब 5 महीने का एक बच्चा emergency वार्ड में सांस लेने के लिए जूझ रहा था ,तो उस समय उसकी माँ की पीड़ा और गुहार सुनने वाला कोई डॉक्टर वहां मौजूद नहीं था | उल्टे उसे ही ऑक्सीजन सप्लाई को परखने को कह दिया गया | भला संवेदनहीनता इसे नहीं कहेंगे तो और क्या कहेंगे ?
                                 देश भर के अस्पतालों के आंकड़ों पर गौर करेंगे तो ऐसे हालात हर ओर दिख जाएंगे | कहते हैं कि डॉक्टर भगवान् का रूप होता है | लेकिन अपने पेशे के प्रति ईमानदार ना होकर उसे एक व्यवसाय बना लेना कहाँ की समझदारी है ?       
                                                   आप सोच रहे होंगे कि बड़े -बड़े सरकारी हॉस्पिटल्स से शुरुआत करके मेरी घड़ी की सुई सरकारी hospitals पर क्यों अटक गयी | सच्चाई यह है कि देश की आधी से अधिक जनता सरकारी चीज़ों पर निर्भर है | जिनकी औकात बड़े hospital में दिखाने की नहीं है ,तो वे लोग कहाँ जाएंगे ? डॉक्टरों की फ़ीस ही इनका कमर तोड़ देती है | आज के डॉक्टर की बात की जाए तो तो आलम यह है कि अगर आपको साधारण सा भी बुखार है तो उसके लिए भी आपको 10 तरीके के test करवाना पड़ सकता है | फिर आप lab के चक्कर लगते रहिये और डॉक्टरों की जेब भरते रहिये ,क्यूंकि यह प्रक्रिया एक दिन में तो ख़त्म होने वाली नहीं है | विकास का रंग ऐसा चढ़ा है कि अगर आप हर दिन डॉक्टर के पास जाते हैं तो हर बार आपसे फ़ीस वसूली जायेगी | कुछ साल पहले तक एक prescription पे 15 दिन तक दिखाया जाता था | फिर जैसे -जैसे देश ने प्रगति किया ,यह समय -सीमा घटकर 7 दिन तक पहुँच गयी | अब तो विकास इस कदर हावी हो गया है कि अगर डॉक्टर प्रतिदिन बुलाएगा तो आपको हर दिन फ़ीस भी देना पड़ेगा | जनता की कमर तो आधी इसी से टूट जाती है | बाकी का कसर दस तरह के ताम  -झाम पूरे कर देते हैं |
                                            ये नहीं कि केवल बड़े -बड़े शहरों में ही ये सब होता है | छोटे -छोटे शहर भी इससे अछूते नहीं हैं | चिकित्सीय प्रणाली की जितनी भी श्रृंखलाएं हैं ,मेरे कहने का मतलब यह है कि medical shop ,pathology lab ये सब डॉक्टर से जुड़े रहते हैं | एक तरह से sequence बना होता है इनके बीच | और ये सब चीज़ें आज से नहीं पहले से ही चली आ रही है ,बस इनको modified कर दिया गया है |
                                                 बड़ों को तो छोड़िये ,बच्चे तक के इलाज़ में भी इन्ही खर्चों से गुजरना पड़ता है | सोचिये जरा उन माँ -बाप के बारे में जिनकी आँखों के सामने उनके बच्चे इलाज़ के अभाव में दम तोड़ देते हैं | कारण क्या ,वही, बड़े डॉक्टर के पास दिखाने की औकात नहीं और सरकारी अस्पताल के पास फुर्सत नहीं अपनी लापरवाही को ठीक करने की |
                                           मेरा ध्येय हमारे देश की चिकित्सा प्रणाली पर केवल ऊँगली उठाना नहीं है | बस मंशा यही है कि हर एक नागरिक को अपनी मुलभुत आवश्यकताओं के लिए रोना ना पड़े | चिकित्सा हमारी जरुरत है और सही तथा सुविधाओं के साथ पूरा होना हमारा अधिकार भी है | अगर इस जरुरत को ही वैश्वीकरण के बाज़ार में खड़ा कर दिया जाएगा तो देश की जनता कहाँ जायेगी ? क्या सरकार के उन दावों को खोखला माना जाए ,जिसमें यह घोषणा की गयी है कि सरकारी अस्पतालों में हर मर्ज की दवा free मिलेगी और जांच भी मुफ्त में ही होगी |
                                 

                                                               इन सरकारी दावों की सच्चाई यह है कि जिस window से फार्मेसिस्ट दवा देकर मरीजों का दर्द कम करता है ,उसने अपने ही दरवाजे बंद कर दिए हैं | जो window खुली है ,वहां पे मरीजों की लगी लम्बी कतारें सरकारी दावों की पोल खोलती नज़र आती है |
                                             इन सबके लिए केवल डॉक्टर को ही दोषी नहीं ठहराया जा सकता है | पूरा मैनेजमेंट और सरकारी तंत्र इसके लिए दोषी हैं | इन अस्पतालों पर मरीजों का इतना दबाव है ,जिसे पूरा  करने में यहाँ की ब्यवस्थाएँ असफल है | ऑक्सीजन सिलिंडर ,वेंटीलेटर ,वार्मर बेड ये सभी मूलभूत  चीजों की भरी कमी है यहाँ | वार्ड भी इतने गंदे होते हैं कि मरीज सही होने की जगह और बीमार पड़  जाए | बच्चों तक के इलाज़ में भी ऐसी ही कोताही बरती जाती है |
                                                            अगर अब भी हमने अपनी अनियमितताओ पर ध्यान नहीं दिया तो राजस्थान ,जमशेदपुर जैसी घटनाएं बार -बार दुहरायी जाएंगी | ये कितनी हास्यास्पद बात है ना कि दूसरे देश के लोग हमारे यहाँ इलाज कराने आते हैं और हमारे ही देश के लोग चिकित्सीय प्रणाली की लापरवाही के कारण मर रहे हैं | अमीरी और गरीबी के बीच की खाई इतनी बड़ी है कि गरीबों की जान की कोई औकात नहीं है | अमीर पैसे के बल पे बड़े -से -बड़े private hospital में इलाज़ करा लेते हैं ,वहीँ गरीब इलाज़ के लिए सरकारी हॉस्पिटल के चक्कर काटते रहते हैं | एक बाप अपने गोद में उठाये बच्चे को ऑक्सीजन सिलिंडर के साथ दौड़ लगा रहा है उसकी जिंदगी बचाने के लिए | सोचिये जरा ,ये लापरवाही और अनियमितता आखिर कब तक गरीबों को मौत की नींद सुलाती रहेगी ?

                                                मेरा तो यही सोचना है कि चिकित्सा हमारी मूलभूत आवश्यकता में आती है और इसे हर नागरिक तक पहुँचाना सरकार की जिम्मेवारी है | private clinic को हर कोई afford नहीं कर सकता है | medical facility की हर सुविधा को देश के हर एक लोगों तक पहुँचने में अभी समय लगेगा | पर हम इतना तो कर सकते हैं कि सरकारी हॉस्पिटल को भी वो सारी सुविधाएं मिलें ,जो किसी गरीब की जिंदगी बचा सके | किसी माँ को खुद ही अपने बच्चे का ड्रिप चेक करना ना पड़े | कोई बाप सड़कों की खाक ना छाने अपने बच्चे की जिंदगी बचाने के लिए |
                                             देश में जाने कितने medical college हैं ,जिसमें से हर साल बच्चे डॉक्टर बनकर निकलते हैं | लेकिन अपने हितों को ध्यान में रखते हुए या तो वे प्राइवेट की तरफ रुख करते हैं या विदेशों की तरफ | कोई वहां नहीं जाना चाहता ,जहाँ वाकई में इसकी जरुरत है | सरकारी हॉस्पिटल में जो डॉक्टर का अभाव है ,वहां पे नई – नई नियुक्तियां की जाएँ | अधिकांश डॉक्टरों का यह हाल है कि आते तो हैं सेवा -भाव लेकर इस पेशे में | पर सुविधाओं और आगे बढ़ने की होड़ में अपना private clinic खोल देते हैं ,जो धीरे -धीरे private hospital में अपना रूप अख्तियार कर लेते हैं | साफ़ -सीधी सी बात यह है कि डॉक्टर को भगवान् का दूसरा रूप माना जाता है तो आपको भी अपने निजी हितों को दरकिनार कर सेवारत होना पड़ेगा | सरकारी तंत्र को भी सबसे ज्यादा बदलने की जरुरत है |अगर सबको अपनी -अपनी जिम्मेवारियों का भान होगा तो किसी को private clinic का मुंह नहीं देखना पड़ेगा ,चाहे वह सरकारी हॉस्पिटल के कर्मचारी हों या नर्स |
                                                            यहाँ देश कैंसर और एड्स जैसी बीमारियों को मात दे  रहा है ,तो वहीँ दूसरी ओर हमारे यहाँ के बच्चे निमोनिया ,डिप्थीरिया जैसी छोटी बीमारियों से मर रहे हैं ,जो उपचाराधीन है | तो इसे हम क्या समझें ,पूरा प्रबंधन -संस्थान   ही इसके  जिम्मेवार है  हम हर चीज़ में आगे बढ़ रहे हैं , वहीँ हमारे सरकारी हॉस्पिटल को जरुरी चीज़ें मुहैया नहीं हो पा रही है |  या इसे यूँ समझा जाए कि जिधर लाभ की आशा हो ,ध्यान भी वहीँ दिया जाए | कम -से -कम इस मामले में तो हम आधुनिकीकरण को नहीं समझ सकते  | जब तक समाज का हर  तबका अपनी आधारभूत सुविधाओं को नहीं पा लेता ,इसे विकासीकरण नहीं कह सकते ,क्यूंकि ये लोगों की जिंदगी से जुड़ी है और कोई भी व्यवस्था इसे दरकिनार नहीं कर सकती | कई असाध्य बीमारियों का इलाज करके हमारे यहाँ के डॉक्टर ने अपना परचम विदेशों  में लहराया है और ये हमारे लिए गर्व की भी बात है | पर अपना देश तभी मुस्कराएगा ,जब यहाँ के आम आदमी की भी जिंदगी की कीमत समझी जाए | किसी को अनियमितताओं का शिकार ना होना पड़े | यही हमारी ,सबकी मांग है और जरुरत भी |
                           

Comments :

    • Author Gravatar

      Long time reader, first time commenter — so, thought I’d drop a comment..
      — and at the same time ask for a favor.

      Your wordpress site is very simplistic – hope you don’t mind me asking what
      theme you’re using? (and don’t mind if I steal it?
      :P)

      I just launched my small businesses site
      –also built in wordpress like yours– but the theme slows (!) the site down quite a bit.

      In case you have a minute, you can find it by
      searching for “royal cbd” on Google (would appreciate any
      feedback)

      Keep up the good work– and take care of yourself during the coronavirus scare!

      ~Justin

    • Author Gravatar

      Really…In current scenario, we are facing multiple challenges in terms of health as well as hospitals…

    • Author Gravatar

      Nice .. But I think Indian medical facilities are improving day by day.

    • Author Gravatar

      Really..health sector iss trah ke muskilo se jujh rha hai…

    • Author Gravatar

      I am really delighted to glance at this blog posts which includes lots of helpful facts, thanks for providing these
      information.

    • Author Gravatar

      I think this is one of the most important information for me.
      And i am happy reading your article. But want to statement on some normal issues, The web site taste is perfect, the
      articles is actually nice : D. Excellent activity, cheers

    • Author Gravatar

      Remarkable! Its in fact awesome post, I have got much clear idea about from
      this article.

    • Author Gravatar

      It’s really a cool and useful piece of info. I’m happy that you just shared
      this helpful information with us. Please keep us informed like this.

      Thanks for sharing.

    • Author Gravatar

      I was very happy to uncover this site. I want to to thank you for your time for
      this wonderful read!! I definitely loved every little bit of it and I have you book-marked to look at new things on your site.

    • Author Gravatar

      Wow that was unusual. I just wrote an very long comment but after I clicked submit my comment didn’t show
      up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyway, just
      wanted to say excellent blog!

    • Author Gravatar

      Thanks designed for sharing such a good thinking,
      piece of writing is fastidious, thats why i have read it entirely

    • Author Gravatar

      No matter if some one searches for his essential thing, thus he/she
      wants to be available that in detail, thus that thing
      is maintained over here.

    • Author Gravatar

      Way cool! Some extremely valid points! I appreciate you writing this write-up plus the rest of the site is also very good.

    • Author Gravatar

      Wonderful beat ! I wish to apprentice while you amend your site, how could i subscribe for
      a blog website? The account helped me a acceptable deal.
      I had been a little bit acquainted of this your broadcast provided bright clear concept

    • Author Gravatar

      I am really inspired with your writing abilities and
      also with the format in your weblog. Is that this a paid topic
      or did you customize it your self? Anyway stay up the excellent high quality writing, it’s rare to see a nice weblog like this one nowadays..

    • Author Gravatar

      Normally I do not learn article on blogs, but I would like to say that this write-up very
      forced me to take a look at and do so! Your writing style has been surprised me.
      Thank you, quite nice post.

    • Author Gravatar

      I every time used to read post in news papers but
      now as I am a user of web so from now I am using net for articles, thanks to
      web.

    • Author Gravatar

      Greetings from Florida! I’m bored to death at work so I decided
      to check out your blog on my iphone during lunch break.
      I love the information you present here and can’t wait to take a look when I get home.
      I’m surprised at how quick your blog loaded on my phone ..
      I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, fantastic blog!

    • Author Gravatar

      I am really enjoying the theme/design of your site.
      Do you ever run into any web browser compatibility problems?
      A number of my blog audience have complained about my blog not operating correctly in Explorer but looks great in Safari.
      Do you have any ideas to help fix this problem?

    • Author Gravatar

      Hello there! Do you use Twitter? I’d like to follow you if that would be ok.
      I’m undoubtedly enjoying your blog and look forward to new posts.

    • Author Gravatar

      It’s really a nice and helpful piece of information. I’m
      satisfied that you just shared this helpful info
      with us. Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

    • Author Gravatar

      Hey there! I’m at work browsing your blog from my new iphone 3gs!
      Just wanted to say I love reading your blog and look forward to all your
      posts! Keep up the great work!

    • Author Gravatar

      For latest information you have to visit web and on internet I found this web site as a best website for hottest updates.

    • Author Gravatar

      I blog quite often and I seriously thank you for your information. This article has really peaked my interest.
      I am going to take a note of your site and keep checking for new information about once a week.
      I subscribed to your Feed as well.

    • Author Gravatar

      Hey There. I found your weblog using msn. This is a very smartly written article.
      I will be sure to bookmark it and return to learn more of your helpful info.
      Thanks for the post. I will definitely return.

    • Author Gravatar

      Awesome issues here. I’m very happy to peer your
      article. Thank you a lot and I’m looking ahead to touch you.
      Will you please drop me a e-mail?

    • Author Gravatar

      Undeniably believe that which you stated. Your
      favorite reason seemed to be on the web the easiest thing to
      be aware of. I say to you, I definitely get irked while people think about worries that they just don’t know about.
      You managed to hit the nail upon the top as well as defined out the whole thing without having side-effects , people can take a signal.
      Will probably be back to get more. Thanks

    • Author Gravatar

      Wonderful blog! I found it while browsing on Yahoo News.
      Do you have any suggestions on how to get listed in Yahoo
      News? I’ve been trying for a while but I never seem to get
      there! Cheers

    • Author Gravatar

      Hello mates, fastidious paragraph and good arguments commented at
      this place, I am genuinely enjoying by these.

    • Author Gravatar

      When someone writes an post he/she retains the plan of a user in his/her brain that how a user can understand it.
      Thus that’s why this piece of writing is perfect.
      Thanks!

    • Author Gravatar

      I’ve been exploring for a little bit for any high quality articles or
      blog posts in this kind of house . Exploring in Yahoo I finally stumbled upon this web site.

      Reading this info So i’m happy to show that
      I have an incredibly good uncanny feeling I found out just what I needed.
      I such a lot indubitably will make sure to don?t disregard this site and provides it
      a look regularly.

    • Author Gravatar

      After looking at a handful of the blog posts on your web page, I honestly appreciate your way of writing a
      blog. I book-marked it to my bookmark website list and will be
      checking back in the near future. Take a look at my web site
      too and let me know what you think.

    • Author Gravatar

      Incredible points. Sound arguments. Keep up the great effort.

    • Author Gravatar

      I’m gone to inform my little brother, that he should also go to see this website on regular basis to take updated from
      newest news.

    • Author Gravatar

      I blog quite often and I truly appreciate your content. This article has really peaked my interest.
      I am going to take a note of your website and keep checking for new information about once per week.
      I subscribed to your Feed too.

    • Author Gravatar

      Valuable information. Lucky me I discovered your website accidentally, and I’m surprised why this accident did not came about
      in advance! I bookmarked it.

    • Author Gravatar

      An impressive share! I’ve just forwarded this onto a coworker who
      had been conducting a little research on this. And he actually ordered me breakfast due to the fact
      that I discovered it for him… lol. So let me reword this….
      Thank YOU for the meal!! But yeah, thanks for spending the
      time to talk about this matter here on your blog.

    • Author Gravatar

      Hi there! Do you know if they make any plugins to assist with Search Engine Optimization? I’m trying
      to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good gains.
      If you know of any please share. Kudos!

    • Author Gravatar

      I every time spent my half an hour to read this website’s posts all the time along with a
      cup of coffee.

    • Author Gravatar

      Hey I am so thrilled I found your website, I really found you by accident, while I was searching on Digg for something else, Nonetheless I am here now and would just
      like to say thanks for a incredible post and a all round entertaining blog (I also love the
      theme/design), I don’t have time to look over it all at the minute but I
      have saved it and also included your RSS feeds, so when I have time
      I will be back to read more, Please do keep up the great work.

    • Author Gravatar

      I am regular visitor, how are you everybody? This post posted at this website
      is actually pleasant.

    • Author Gravatar

      It’s not my first time to go to see this web site, i am browsing this website dailly and take pleasant facts from here everyday.

    • Author Gravatar

      If you would like to improve your knowledge simply keep
      visiting this site and be updated with the most recent news posted here.

    • Author Gravatar

      Hello, after reading this awesome post i am as well delighted to share my know-how here with mates.

    • Author Gravatar

      Hello, i think that i noticed you visited my
      weblog thus i came to return the want?.I’m trying to to find things to improve my site!I
      guess its good enough to use some of your ideas!!

    • Author Gravatar

      This is a topic that’s near to my heart… Many thanks!
      Exactly where are your contact details though?

    • Author Gravatar

      I every time spent my half an hour to read this blog’s articles everyday along with a cup of coffee.

    • Author Gravatar

      There is certainly a lot to find out about this issue.
      I like all the points you have made.

    • Author Gravatar

      A fascinating discussion is worth comment.
      There’s no doubt that that you need to publish more on this topic,
      it may not be a taboo matter but typically people do not talk about these issues.

      To the next! Many thanks!!

    • Author Gravatar

      Why visitors still use to read news papers when in this technological globe everything is accessible
      on web?

    • Author Gravatar

      What’s up Dear, are you actually visiting
      this website daily, if so afterward you will definitely take good experience.

    • Author Gravatar

      Thank you very much for the article

    • Author Gravatar

      [url=https://finasteridep.com/]buy propecia tablets[/url]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *