हर दिन ना जाने कितनी सारी आवाजें हमारे कानों में पड़ती हैं।जो हमारा दिल सुनना चाहता है ,वो कर्णप्रिय होती हैं मगर जो आवाजें हमारी जिंदगी को एक नए मोड़ पे खड़ी कर देती हैं,वो कब शोर में बदल जाती हैं ,पता ही नहीं चलता है।ध्यानचंद के साथ भी तो यही हो रहा है।आवाजों ने शोर का रूप अख्तियार किया […]